श्री गणेश और मूषक की कहानी

श्री गणेश और मूषक की कहानी

बहुत समय की बात है , एक बहुत ही भयंकर असुरों का राजा था जिसका नाम गजमुख था । वह बहुत ही शक्तिशाली बनना और धन चाहता था । वह साथ ही सभी देवी- देवताओं को अपने बस में करना चाहता था , इसलिए हमेशा भगवान शिव से वरदान के लिए तपस्या करता था । शिव जी से वरदान प्राप्त पाने के लिए वह अपना राज्य छोड़कर जंगल में जाकर रहने लगा , और शिव जी से वरदान प्राप्त करने के लिए बिना पानी पिए भोजन खाए रात दिन तपस्या करने लगा ।

कुछ साल बीत गए शिव जी ने उसके अपार तप को देखकर प्रभावित हो गए और शिव जी उसके सामने प्रकट हुए । शिव जी ने खुश होकर उसे दैविक शक्तियां प्रदान कर दी , जिससे वह बहुत शक्तिशाली बन गया । सबसे बड़ी ताकत जो शिवजी ने उसे प्रदान किया, वह यह था कि उसे किसी भी शस्त्र से नहीं मारा जा सकता ।

असुर गजमुखको अपनी शक्तियों पर गर्व हो गया और वह अपने शक्तियों का दुरुपयोग करने लगा और देवी-देवताओं पर आक्रमण करने लगा । मात्र शिव , विष्णु , ब्रह्मा और गणेश ही उसके आतंक से बचे हुए थे । गजमुख चाहता था कि हर कोई देवता उसकी पूजा करे ।

सभी देवता शिव , विष्णु और ब्रह्मा जी के शरण में पहुंचे और अपने जीवन की रक्षा के लिए गुहार करने लगे । यह सब देख कर शिवजी ने गणेश को असुर गजमुख को यह सब करने से रोकने के लिए भेजा ।

गणेश जी ने गजमुख के साथ युद्ध किया और असुर गजमुखको बुरी तरह से घायल कर दिया । लेकिन तब भी वह नहीं माना । उस असुर ने स्वयं को एक मूषक के रूप में बदल लिया और गणेश जी की ओर फिर आक्रमण करने के लिए दौड़ा ।

जैसे ही वह गणेश जी के पास पहुंचा गणेश जी कूदकर उसके ऊपर बैठ गए और गणेश जी ने गजमुखको जीवन भर के लिए मूस में बदल दिया और अपने वाहन के रूप में जीवन भर के लिए रख लिया । बाद में गजमुख भी अपने इस रूप से खुश हुआ और गणेश जी का प्रिय मित्र भी बन गया ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *