मालिक के ‘सत्तर साला अर्जुन’ की नियुक्ति

सर्कस अपने फटे तंबू में भले बदहाल हो लेकिन मालिकान हमेशा शहर के होटलों में रहते हैं .. और युवा जोश के साथ सर्कस के फेस की जिम्मेदारी के लिये .. ”मालिक के सत्तर साला अर्जुन” की नियुक्ति कर दी जाती है।

Read More