यहां है महर्षि वाल्मीकि का आश्रम

यहां है महर्षि वाल्मीकि का आश्रम

बालकांड का संदर्भ लें तो ज्ञात होता है कि वाल्मीकि का आश्रम तमसा नदी के तट पर और गंगा के निकट स्थित था ।

“सं मुहूर्तंगते तस्मिन देवलोकं मुनिस्तदा जगाम तमसातीरं जाह्नव्यास्त्वविदूरत: ।”

इसके अतिरिक्त गोस्वामी तुलसीदास ने ‘रामचरित मानस’ के अयोध्या कांड में एक स्थान को वाल्मीकि का आश्रम बताया है ।

देखत वन सर शैल सुहाए, बाल्मीकि आश्रम प्रभु आए ।
रामदीख मुनिवास सुहावन , सुंदर गिरि कानन जलपावन ।
सरनि सरोज (विटप वन) फूले , गुंजत मंजुमधुप रस भूले ।
खगमृग विपुल कोलाहल करहीं ,विरहित वैर मुदित मन चरहीं ।

उत्तर प्रदेश में कानपुर से 28 किलोमीटर दूर एक छोटी सी जगह है बिठुर । यहीं पर वाल्मीकि का आश्रम माना गया है । यहीं पर बैठकर उन्होंने रामायण की रचना की थी । इसी आश्रम में सीता ने लव-कुश को जन्म दिया था । लव कुश की जन्म स्थली कहे जाने वाले बिठूर में हर दिन हजारों की संख्या में लोग दर्शन कर करने के लिए आते हैं । सीता रसोई ,बाल्मिकी आश्रम आदि के अस्तित्व आज भी यहां विराजमान है । यहां माता सीता का एक मंदिर है । मंदिर में माता सीता की प्रतिमा अपने पुत्र लव और कुश के साथ है । यह आश्रम काफी ऊंचाई पर बना है, इसलिए यहां तक पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनाई गई हैं । इन सीढ़ियो को स्वर्ग जाने की सीढ़ी कहा जाता है । स्थानीय लोग इसे सरग नशेनी भी कहते हैं ।

बताया जाता है कि इस आश्रम की आखिरी सीढ़ी से पूरे बिठूर का सुंदर नजारा देखा जा सकता है । स्थानीय लोगों का मानना है कि जब भगवान राम के आदेश पर लक्ष्मण ने सीता को जंगल में छोड़ दिया था, तो वह भटकती हुई यहां पहुंची थी । यहीं पर उनकी मुलाकात ऋषि बाल्मीकि से हुई थी । इसके बाद वो उन्हें बिठूर के आश्रम में ले गए । उनका आश्रम आज भी वहां है । बताया जाता है कि पहले यहां दीपक जला कर रखा जाता था , जिन्हें ‘दीप मालिका’ भी कहा जाता है ।

स्थानीय लोगों द्वारा दावा किया जाता है कि इन सीढ़ियों को नाना पेशवा ने बनवाया था । इसके बगल में एक घंटा भी लगा है । कहा जाता है कि जब इस घंटे को बजाया जाता था , तो तात्या टोपे को पता चल जाता था कि उन्हें बुलाया जा रहा है । बाल्मीकि आश्रम में तीन मंदिर है । इनमें से एक मंदिर खुद बाल्मीकि का है, जिसमें उनकी प्रतिमा है । वे पद्मासन की मुद्रा में बैठे हुए हैं और दाएं हाथ में लेखनी लिए हुए हैं । यहीं पर रहकर उन्होंने रामायण की रचना की थी । उनके पास ही भगवान विष्णु की मूर्ति स्थापित है । आश्विन शुक्ल पूर्णिमा को बाल्मीकि जयंती मनाई जाती है ।

कुछ लोग बाल्मीकि आश्रम मेरठ से करीब 27 किलोमीटर दूर बागपत का एक गांव बलैनी में बताते हैं । यह गांव बागपत शहर से करीब 23 किलोमीटर दूर है । मेरठ से बागपत की तरफ जाते समय करीब 27 किलोमीटर दूर अंदर की तरफ एक रास्ता कटता है , इसी रास्ते पर आप चलेंगे तो आखिर में आपको एक आश्रम दिखाई देगा । यह बाल्मीकि आश्रम है । यह आश्रम हिंडन नदी के पास स्थित है । इसी आश्रम में सीता जी ने अंतिम समय बिताया था और बेटे लव और कुश का जन्म हुआ था ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *