Social Media

SIT के पास पूरी लिस्ट होने, उसके जाँच में लगे रहने के बाद भी लिस्ट की सेकेण्ड कॉपी किसलिए

ये कूदा, वो कूदा, कई कूदने को बेताब हैं / बह रही है काली गंगा, सब धो रहे हाथ हैं। और ये लीजिये मालिक अब देश के सबसे बड़े वाले मी लॉर्ड भी कहते हैं ”सजनी हमहुँ राजकुमार हैं।

‪‎नौ‬ साल से नाम रखने और सुप्रीम कोर्ट की लात पर लात के बाद भी SIT का गठन न करने वाली पूर्व सरकार के जाते ही, आने वाली सरकार ने किया कोर्ट के आदेशानुसार SIT का गठन। सौँप दिए अभी तक हासिल सभी काले नाम।

money photoअपने ही आदेश से गठित SIT के पास पूरी लिस्ट होने, उसके जाँच में लगे रहने के बाद भी कोर्ट का लिफाफा काण्ड समझ आता है आपको …!! लिस्ट की सेकेण्ड कॉपी किस लिए…!! जब आपने ही जाँच को SIT बनायी और वो काम पर है तो फिर इधर-उधर जाँच करवाने का डायलॉग क्यों..!! योर ऑनर, हम प्रजा जनों ने खुद को सजनी मानते हुए आपको हमेशा राजकुमार ही समझा किया, क्या आपको नहीं लगता… आप इस मामले में कुमार नहीं बादशाह बनने की तलब में दिख रहे हैं। चलिये आपकी तमन्ना है लिफाफे की तो रखिये … हाँ खोल के नाम जाहिर कर सकते हों, तो तुरंत कर दीजियेगा। हम भी देखें सरकार क्या छुपा रही थी और क्यों छुपा रही थी। अगर आपने ऐसा नहीं किया, तो क्या आज के बाद हम ये मान लें कि ये छिपने-छिपाने का काम इस मामले में आप करने लगे हैं !! चलो भाई नारेबाज़ों, इस मामले से तो सरकार की छुट्टी हुई, अब कोर्ट के सामने नारे लगाओ । कसम तुमको/ तेरे सर की….. सारे नाम लिफाफा आते ही शाम तक बाहर लेके आओ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *