Social Media

वो करें तो धरना…आप करें तो मजबूरी…कल के लिए जरुरी…

  •  
  •   
  •   
  •   
  •   
  •  
  •  
  •  
  •  

पिछले वर्ष हुवे 3% की रेल किराये वृद्धी पर हो हल्ला मचने वाले, हजारों की ड्रेस में होने के बावजूद अपने आपको #गरीब_चायवाला बताने वाले (#शहबजादा नहीं है का रोना रोने वाले)… 
कृपया हमें बताएं की हमने आपका और आपकी पार्टी का चयन कर के कुछ बड़ी गलती तो नही कर दी? 
[quote]It is not a matter of increase of fare but a matter of “doing the same act for which you have been opposing…”[/quote]
इस बार पहली बार हम #UP वालों ने #जाति नही देखि, #धनबल नही देखा, #क्षेत्रवाद नही किया और आपने भी किसी को भी कही से भी चुनाव लडवा लिया। क्योंकी UP वालों ने आप को देखा, होने वाले #विकास के सपने देखे। आपके चक्कर में कमलेश पासवान जैसे नेता जो कभी अपने क्षेत्र में नही देखे गए उनके जैसे बहुतेरे को जिताया। पर ये क्या? अब आप तो केवल #धंधा_वालों के साथ #चाय पीने लगे हैं।

India_Market_Vegetables_Fruit_Onion_Potato
It is not a matter of increase of fare but a matter of “doing the same act for which you have been opposing…”


आज आपने 14% वाली वृद्धि कर के अच्छा किया है! क्या है की हर 2-4 महीने में 2-3% कम करते रहिएगा और बीच बीच में 1-1/2% बढ़ा भी देंगे तो हम नोटिस नही करेंगे।

और हाँ क्या है की सब जगह #FDI का फायदा है। इसको प्रोत्साहित कीजिये। पहले आप इसका विरोध इसलिए कर रहे थे क्योंकि विपक्ष में थे न। और…और हाँ आपका विरोध ना हो पाए अतः किसी कीमत पर एक अच्छे #विपक्ष_दल को मान्यता/उभरने मत दीजियेगा।
कांग्रेस ने #खज़ाना खाली छोड़ा है, इसमें आपकी क्या गलती। FDI तो लाना ही पड़ेगा, है ना…और वर्ष बदलते ही उसके अन्दर फायदा वाली चीज भी तो आ गयी है न। 


हम ही गलत थे…हैं…क्या है राजनितिक समझ हमें नही है न। हम तो 2-4k line के #codeमें #bug ढूंढते ढूंढते शाम कर देने वाले लोग हैं…

 


सब अपना उल्लू सीधा करने में लगें है। हमारे #UP के लिए तो बस वादें हैं।

#सेक्स_लहर जो समाजवाद लहर के बाद विस्फोट पर विस्फोट किये जा रही है, इसने तो हमें शर्मिंदा कर रखा है। रोज दोस्तों से “अरे भाई तुम्हारे प्रदेश में हो क्या रहा है? यार, अब तो ‘UP वाला किरायेदार’, लोग बहुत सोच समझ के रखेंगे।” सुनकर तंग आ गया हूँ।

#हाथ, आम आदमी के साथ तो होता है पर खाली, वहाँ पर उनके ही मंत्री संत्री हाथ की मुट्ठी खुलते ही माल साफ़ कर जाते हैं…

#बहन_जी आती हैं और मुर्तिया की नक्काशी, अफसरों की हेरा फेरी ही हो पाती है। मेरे 2 रिश्तेदार अपना पुस्तैनी द्वार का 2 लट्ठ जमीन गवाने के बाद भी #हरिजन_एक्ट से अब भी परेशान हैं।

राजनाथ सिंह साहब से लेकर ना जाने कितने मुख्यमंत्री #कमल से खिले (UP में शुरू से अब तक लगभग #आधा_शाशन इन्होने ही किया ) पर हुवा क्या…अरे कुछ किया होता…आप ही से तो #ज्यादा_उम्मीदे होती है पर आप भी मजबूरियां नापते रहे…

खैर, हमें क्या हम तो दुसरे प्रदेश में #जीवन_यापन कर रहे हैं…

चलो भाई….#सारे_बुरे तो #मै_अच्छा_कैसे ? Facebook पर स्टेटस अपडेट करना इजी है, सच में करना…

हुंह बात सही है, बेहतर होगा मै अपना ध्यान अपने काम पर लगावु।

Admin
संपादक