कुछ समय के लिए आंखों से यह मंदिर ओझल हो जाता है

कुछ समय के लिए आंखों से यह मंदिर ओझल हो जाता है

भगवान शिव का यह मंदिर भारत में अनोखा मंदिर है , जो सुबह शाम आंखों से ओझल हो जाता है । यह मंदिर गुजरात के कावी कंबोई गांव में है । यह मन्दिर वड़ोदरा से 40 मील दूर अरब सागर के मध्य कैम्बे तट पर है । इस मंदिर का नाम स्तंभेश्वर महादेव मंदिर है ।

कहा जाता है कि इस मंदिर को भगवान कार्तिकेय ने बनवाया था । दरअसल इस मंदिर के आंखों से ओझल होने और फिर वापस आने के पीछे तर्क ज्वार भाटा उठना है । यही वजह है कि ज्वार भाटा आने के समय यह मंदिर समुद्र में डूब डूब जाता है और फिर जैसे ही ज्वार कम होता है या मंदिर ऊपर आ जाता है । इसलिए लोग उसी समय मंदिर में भगवान के दर्शन कर सकते हैं जब समुद्र में ज्वार कम हो । ऐसा केवल कुछ समय से ही नहीं बल्कि सदियों से ऐसा हो रहा है । इस मंदिर के पीछे की कहानी यह है कि राक्षस तारकासुर ने शिव की तपस्या कर उनसे वरदान मांग लिया था । शिव ने उसकी तपस्या से खुश होकर यह वरदान दिया था कि राक्षस ताड़कासुर को सिर्फ और सिर्फ उनका बेटा जिसकी उम्र केवल 6 दिन हो , वही मार सकता है ।

वरदान मिलने के बाद राक्षस तारकासुर में सभी जगह आतंक फैलाना शुरू कर दिया । इससे सभी देवी देवता डरे हुए थे । इसके बाद भगवान शिव के पुत्र कार्तिकेय ने ही छह साल की आयु में ताड़कासुर का वध कर सभी को राक्षस ताड़कासुर के आतंक से मुक्ति दिलाई थी । चूंकि राक्षस ताड़कासुर भगवान शिव का भक्त था तो इसलिए उस जगह पर शिवालय बनाया गया । जिसे आज स्तंभेश्वर महादेव मंदिर कहा जाता है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *